राज कपूर का संक्षिप्त जीवन परिचय (Brief biography of Raj Kapoor)

Raj Kapoor biography

राज कपूर एक कुलीन घराने के अभिनेता है। राज कपूर का जन्म वर्ष 1924 में पेशावर में रहने वाले एक पंजाबी हिंदू परिवार में हुआ था। वर्ष 1947 के बंटवारे के पश्चात इनके पिता पृथ्वीराज कपूर और पूरा परिवार बॉम्बे आकर बस गए थे। इनके पिता पृथ्वीराज कपूर भारतीय हिंदी सिनेमा के प्रारंभिक दिग्गज अभिनेताओं में से एक हैं। इस तरह से राज कपूर एक हिंदी सिनेमा की पारिवारिक पृष्ठभूमि से आते हैं। इनकी माता का नाम रामसरनी देवी कपूर था। इनके दो भाई शम्मी कपूर और शशि कपूर भी हिंदी सिनेमा में अपने अभिनय का अद्भुत योगदान दे चुके हैं। राज कपूर ने वर्ष 1935 में इंकलाब फिल्म से हिंदी सिनेमा में पदार्पण किया था। इस फिल्म में उन्होंने बाल कलाकार का किरदार निभाया था। बतौर मुख्य अभिनेता राज कपूर की सबसे पहली हिट फिल्म वर्ष 1947 में केदार शर्मा द्वारा निर्देशित नीलकमल  थी। वर्ष 1935 से 1990 तक उन्होंने लगभग 76 फिल्मों में काम किया। राज कपूर की अंतिम फिल्म वर्ष 1990 में आई धड़ाका मराठी फिल्म थी। राज कपूर की फिल्मी कैरियर की सबसे अधिक लोकप्रिय फिल्में आवारा,  श्री 420,  जागते रहो,  जिस देश में गंगा बहती है,  अनहोनी,   अनाड़ी  आदि है। राज कपूर अपने जीवन के अंतिम वर्षों में अस्थमा की बीमारी से पीड़ित वर्ष 1988 में  63 वर्ष की आयु में उनका इसी बीमारी के कारण देहांत हो गया।

राज कपूर का जन्म और उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि (Raj Kapoor’s birth and his family background)

राज कपूर का जन्म 14 दिसंबर 1924 को किस्सा ख्वानी बाजार  पेशावर  ब्रिटिश इंडिया के समय एक पंजाबी हिंदू परिवार की कपूर हवेली में हुआ था।राज कपूर 2:30 घर खत्री समुदाय से संबंध रखते हैं। इनकी माता का नाम राम सभी देवी कपूर और पिता का नाम पृथ्वीराज कपूर है।  6 बहन भाइयों में  राज कपूर सबसे बड़े थे। इनके दादा का नाम देवान बशेश्वरनाथ कपूर और परदादा का नाम देवान  केशवमल कपूर। इनके दो भाई शम्मी कपूर और शशि कपूर भी हिंदी सिनेमा में दिग्गज अभिनेता रह चुके हैं।

 राज कपूर की शैक्षणिक योग्यता (Raj Kapoor’s Educational Qualification)

1923 के दशक में इनके पिता पृथ्वीराज कपूर एक शहर से दूसरे शहर अपने करियर बनाने के लिए घूम रहे थे। जिस कारण इनके परिवार को भी इनके साथ साथ जाना पड़ता था। इसका राज कपूर की शिक्षा पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ा। उन्होंने अपने जीवन में कई स्कूलों में दाखिला लिया जैसे कि  कर्नल ब्राउन कैंब्रिज स्कूल देहरादून, सेंट जेवियर्स  कोलीगेट स्कूल कोलकाता और कैंपियन स्कूल बॉम्बे।

 राज कपूर की व्यक्तिगत जानकारी (Personal Information of Raj Kapoor)

वास्तविक नाम रणबीर राज कपूर
उपनामशोमेन ऑफ बॉलीवुड
राज कपूर का जन्मदिन14 दिसंबर 1924
राज कपूर की आयु63 वर्ष ( मृत्यु के समय)
राज कपूर का जन्म स्थान किस्सा ख्वानी बाजार,  पेशावर ब्रिटिश इंडिया ( वर्तमान पाकिस्तान)
राज कपूर का मूल निवास स्थानतहसील समुंद्री,  जिला ल्यालपुर, पंजाब प्रोविंस ( वर्तमान फैसलाबाद –  पाकिस्तान)
राज कपूर की मृत्यु तिथि2 जून 1988
राज कपूर का मृत्यु स्थाननई दिल्ली भारत
राज कपूर की मृत्यु का कारणकार्डियक अरेस्ट ( लंबे समय से अस्थमा की बीमारी के बाद)
राज कपूर की शैक्षणिक योग्यताज्ञात नहीं
राज कपूर के स्कूल का नामकर्नल ब्राउन कैंब्रिज स्कूल देहरादून, 
सेंट जेवियर्स  कोलीगेट स्कूल कोलकाता 
कैंपियन स्कूल बॉम्बे
राज कपूर के कॉलेज का नामलागू नहीं
राज कपूर का व्यवसायअभिनेता,  फिल्म निर्माता और निर्देशक
राज कपूर की कुल संपत्ति500  करोड़  रुपए  के लगभग
राज कपूर की वैवाहिक स्थितिविवाहित 
राज कपूर की वैवाहिक तिथि12 मई 1946 

राज कपूर की शारीरिक संरचना (Raj Kapoor’s Body Structure)

राज कपूर की लंबाई5 फुट 7 इंच
राज कपूर का वजन85 किलोग्राम
राज कपूर  का शारीरिक मापछाती 42 इंच,  कमर 36 इंच,  बाइसेप्स 14 इंच
राज कपूर की आंखों का रंगहेज़ल 
राज कपूर के बालों का रंगकाला और सफेद

राज कपूर का परिवार (Raj Kapoor’s family)

राज कपूर के पिता का नामपृथ्वीराज कपूर ( 1906-1972 )
राज कपूर की माता का नामरामसरनी देवी कपूर (1908 –  1972 )
राज कपूर के भाइयों का नामशशि  कपूर ( 1938 –  2017)
शम्मी कपूर ( 1931 –  2011)
नंदी कपूर  और देवी कपूर ( मृत्यु 1931)
राज कपूर की बहन का नामउर्मिला सियाल कपूर 
राज कपूर की पत्नी का नामकृष्णा कपूर
राज कपूर के बेटों का नामरणधीर कपूर,  ऋषि कपूर और राजीव कपूर
राज कपूर की बेटियों के नामरितु नंदा  और रीमा जैन 

राज कपूर का हिंदी सिनेमा में पदार्पण (Raj Kapoor’s debut in Hindi cinema)

राज कपूर ने वर्ष 1935 में इंकलाब फिल्म में  एक बाल कलाकार के तौर पर हिंदी सिनेमा में पदार्पण किया था। वर्ष 1947 में केदार शर्मा द्वारा निर्देशित फिल्म नील कमल  में बतौर मुख्य अभिनेता राज कपूर की सबसे पहली सुपरहिट फिल्म थी जिसमें उन्हें लोकप्रियता प्राप्त हुई। इस फिल्म में उनके सह कलाकार बेगम पारा और मधुबाला थी। वर्ष 1948 में उन्होंने आग फिल्म का निर्देशन भी किया,  जिसके साथ में हिंदी सिनेमा के सबसे पहले और कम उम्र के निर्देशक बने| वर्ष 1949 में उन्होंने महबूब खान द्वारा निर्देशित रोमांटिक ड्रामा फिल्म में दिलीप कुमार और नरगिस के साथ काम किया, इनकी यह फिल्म भी सुपरहिट साबित हुई।

 इस फिल्म की सफलता के पश्चात उन्होंने एक के बाद एक ब्लॉकबस्टर फिल्मों जैसे कि आवारा वर्ष 1951, आह वर्ष 1953, श्री 420 1955, जागते रहो वर्ष 1956, चोरी चोरी वर्ष 1956, अनारी 1959, छलिया 1960, जिस देश में गंगा बहती है वर्ष 1960, दिल ही तो है 1963, संगम वर्ष 1964, मेरा नाम जोकर वर्ष 1970 आदि| 

बतौर फिल्म निर्माता और निर्देशक राज कपूर ने हिंदी सिनेमा को कईं ब्लॉक बास्टर फिल्मों की सौगात दी जैसे कि आवारा वर्ष 1951, श्री 420 वर्ष 1955, जिस  बहती है वश 1960, संगम वर्ष 1964, मेरा नाम जोकर वर्ष 1970, बॉबी वर्ष 1973, सत्यम शिवम् सुंदरम वर्ष 1978, प्रेम रोग वर्ष 1982 आदि| 

 राज कपूर का अन्य कलाकारों के साथ काम (Raj Kapoor’s work with other actors)

ख्वाजा अहमद अब्बास एक पटकथा लेखक और निर्देशक थे जिनके साथ राज कपूर ने वर्ष 1951 से वर्ष 1991 तक कुल कईं फिल्मों में  काम किया जैसे कि आवारा, अनहोनी, श्री 420, मेरा नाक जोकर आदि| शंकर जयकिशन हिंदी फिल्म सिनेमा बहुत ही जाने माने संगीत निर्माता हैं जिनके साथ राज कपूर ने 20 फिल्मों में काम किया| जैसे कि बरसात , अब दिल्ली दूर नहीं, बॉबी, सत्यम शिवम सुंदरम, प्रेम रोग,धरम करम आदि| 

नरगिस अभिनेत्री के साथ राज कपूर ने 16 फिल्मों में बतौर मुख्य अभिनेता काम किया जैसे कि आग, अंदाज़, बरसात, प्यार , आवारा , अनहोनी , बेवफा, आह , श्री 420, चोरी चोरी , जागते रहो आदि | मुकेश और मन्नडे हिंदी पाश्र्व गायन के सर्वश्रेष्ठ गायकों में से हैं जिन्हें आज भी संगीत प्रेमी सुनना पसंद करते हैं| राज कपूर की फिल्मों में अधिकतर गीत मुकेश ने ही गाए थे| बल्कि राज कपूर और मुकेश की आवाज़ हिंदी  गीतों में एक दूसरे का प्रियाय थे | जब मुकेश की मृत्यु हुई तो राज कपूर को लगा की जैसे उनकी आवाज़ चली गई| मुकेश की मृत्यु के बाद मन्नडे ने राज कपूर की फिल्मों के लिए गीत गाए| 

राज कपूर की मृत्यु (Raj Kapoor’s death)

राज कपूर मृत्यु से पहले काफी लम्बे समय से अस्थमा की बीमारी का शिकार थे और बढ़ती उम्र के साथ साथ उनकी ये बीमारी भी बढ़ती ही जा रही थी| एक कार्यक्रम के दौरान जब वह दिल्ली में दादा साहेब फाल्के अवार्ड प्राप्त कर रहे थे तभी अचानक गिर पड़े| उन्हें तुरंत ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट  मेडिकल साइंस इलाज के लिए ले जाया गया| एक महीने तक वह हस्पताल में भर्ती रहे| उन दिनों वह हीना फिल्म  कर रहे थे| 2 जून 1988 को उनका कार्डिएक अरेस्ट के कारण देहांत हो गया| 

राज कपूर के अवार्ड और सम्मान (Raj Kapoor’s Awards and Honors)

वर्ष 1955 सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म हिंदी नेशनल फिल्म अवार्ड फिल्म श्री 420 

वर्ष 1960 सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म हिंदी नेशनल फिल्म अवार्ड फिल्म जिस देश में गंगा बहती है 

वर्ष 1987 दादा साहेब फाल्के अवार्ड 

वर्ष 1954 सर्वश्रेष्ठ फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड फिल्म बूट पोलिश 

वर्ष 1959 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड  फिल्म अनाड़ी 

वर्ष 1964 सर्वश्रेष्ठ फिल्म फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड  फिल्म संगम 

वर्ष 1970 सर्वश्रेष्ठ निर्देशक फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड  फिल्म मेरा नाम जोकर 

वर्ष 1982 सर्वश्रेष्ठ निर्देशक फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड  फिल्म प्रेम रोग 

वर्ष 1982 सर्वश्रेष्ठ एडिटिंग फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड फिल्म प्रेम रोग 

वर्ष 1985 सर्वश्रेष्ठ निर्देशक फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड फिल्म राम तेरी गंगा मैली 

वर्ष 1985 सर्वश्रेष्ठ एडिटिंग फिल्म फिल्मफेयर अवार्ड फिल्म राम तेरी गंगा मैली 

error: Content is protected !!