रीमा लागू का संक्षिप्त जीवन परिचय। (Brief biography of Reema Lagoo)

Reema Lagoo biography

रीमा लागू हिंदी सिनेमा तथा टेलीविजन धारावाहिकों में बहुत बड़ा नाम है। रीमा लागू ने वर्ष 1980 में गोविंद निहलानी द्वारा निर्देशित फिल्म आक्रोश से हिंदी सिनेमा में पदार्पण किया था। अपने फिल्मी करियर के दौरान उन्होंने वर्ष 2018 तक लगभग 130  फिल्मों में काम किया। जिनमें से सबसे अधिक उपलब्धि उन्होंने मैने प्यार किया,  साजन,  शोला और शबनम,  हम आपके हैं कौन,  कुछ कुछ होता है तथा हम साथ साथ हैं से प्राप्त की। वर्ष 1985 में उन्होंने दूरदर्शन चैनल पर प्रसारित किए जाने वाले धारावाहिक खानदान से टेलीविजन इंडस्ट्री में पदार्पण किया था वर्ष 2016 तक होने 14 विभिन्न धारावाहिकों में अपने उत्कृष्ट अभिनय का योगदान दिया। रीमा लागू ने हिंदी सिनेमा तथा टेलीविजन धारावाहिकों में अधिकतर मां और सास  का किरदार ही निभाया। यह हिंदी सिनेमा की ही नहीं बल्कि  मराठी फिल्मों में भी बिग इस अभिनेत्री मानी जाती हैं। 17 मई 2017 को जब वह एक टेलीविजन धारावाहिक नामकरण की शूटिंग कर रही थी उसी दौरान उनको सीने में दर्द हुआ। तुरंत उन्हें जब हॉस्पिटल ले जाया गया उसके 2 घंटे बाद ही उनका हृदयाघात के कारण निधन हो गया।

रीमा लागू का जन्म और उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि। (Reema Lagoo’s birth and family background.)

रीमा लागू का जन्म 21 जून 1958 को बॉम्बे , बॉम्बे स्टेट (वर्तमान मुंबई) भारत में हुआ था। इनका वास्तविक नाम नयन भड़भड़े है। इनके पिता का नाम तथा उनकी कोई भी अन्य जानकारी उपलब्ध नहीं है। इनकी माता का नाम मंदाकिनी भड़भड़े था। वह  एक मराठी थिएटर अभिनेत्री थी। उन्होंने पांच मराठी फिल्मों में काम भी किया था। 

रीमा लागू की शैक्षणिक योग्यता। (Educational Qualification of Reema Applied.)

रीमा लागू ने स्कूली शिक्षा एचएचसीपी हाई स्कूल पुणे से प्राप्त की थी। स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के पश्चात उन्होंने विल्सन कॉलेज मुंबई में दाखिला ले लिया जहां से उन्होंने स्नातक की शिक्षा प्राप्त की। एचएचसीपी हाई स्कूल के  एक कार्यक्रम के दौरान ही उन्हें अपनी इस कला का एहसास हुआ था।

रीमा लागू की व्यक्तिगत जानकारी (Personal Information of Reema Lagoo)

वास्तविक नामनयन भड़भड़े 
उपनामरीमा लागू
रीमा लागू का जन्मदिन21 जून 1958
रीमा लागू की आयु58 वर्ष( मृत्यु के समय)
रीमा लागू का जन्म स्थानमुंबई महाराष्ट्र भारत
रीमा लागू की मृत्यु तिथि18 मई 2017
रीमा लागू का मृत्यु स्थानकोकिलाबेन हॉस्पिटल मुंबई
रीमा लागू की मृत्यु का कारणकार्डियक अरेस्ट
रीमा लागू  की राष्ट्रीयता  भारतीय
रीमा लागू का धर्महिंदू
रीमा लागू की शैक्षणिक योग्यतास्नातक
रीमा लागू के स्कूल का नाम  एच.एच.सी.पी हाई स्कूल पुणे
रीमा लागू के कॉलेज का नामविल्सन कॉलेज मुंबई
रीमा लागू का व्यवसायअभिनेत्री
रीमा लागू  की डेब्यू फिल्मकलयुग – वर्ष 1980
रीमा लागू का डेब्यू टेलीविजन धारावाहिकखानदान –  वर्ष 1985
रीमा लागू की कुल संपत्ति23  करोड़ रुपए के लगभग
रीमा लागू की वैवाहिक स्थितिविवाहित 
रीमा लागू की वैवाहिक तिथि वर्ष 1978

रीमा लागू की शारीरिक संरचना (Body Composition of Reema Lagoo)

रीमा लागू की लंबाई 5 फुट 3 इंच
रीमा लागू का वजन65 किलोग्राम
रीमा लागू का  फिगर  व  शारीरिक मापअप्पर 36 इंच, कमर 30 इंच, लोअर 38 इंच 
रीमा लागू की आंखों का रंगगहरा भूरा
रीमा लागू के बालों का रंगकाला

रीमा लागू का परिवार (Reema Lagoo’s family)

रीमा लागू के पिता का नामज्ञात नहीं
रीमा लागू की माता का नाममंदाकिनी भड़भड़े ( अभिनेत्री)
रीमा लागू के भाई बहन का नामज्ञात नहीं
रीमा लागू के पति का नामविवेक लागू (मराठी अभिनेता – विवाह के कुछ वर्षों पश्चात अलग)
रीमा लागू की बेटी का नाममृणमई लागू (अभिनेत्री)

रीमा लागू का हिंदी सिनेमा में पदार्पण (Reema Lagoo’s debut in Hindi cinema)

रीमा लागू ने वर्ष 1980 में गोविंद निहलानी द्वारा निर्देशित फिल्म आक्रोश से हिंदी सिनेमा में पदार्पण किया था। वर्ष  1988 रीमा लागू ने मंसूर खान द्वारा निर्देशित म्यूजिकल रोमांटिक ड्रामा फिल्म कयामत से कयामत तक में कमला सिंह का किरदार निभाया था। इस फिल्म के मुख्य अभिनेता अभिनेत्री आमिर खान और जूही चावला थे। 

वर्ष 1989 में सूरज बड़जात्या द्वारा निर्देशित म्यूजिकल रोमांटिक फिल्म मैंने प्यार किया में इन्होंने कौशल्या चौधरी का किरदार निभाया था। इस फिल्म में उनके अभिनय को दर्शकों तथा क्रिटिक्स द्वारा खूब पसंद किया गया। इस फिल्म के लिए इनको सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री फिल्म फेयर अवार्ड पुरस्कार के लिए नामांकित भी किया गया था। इस फिल्म की सफलता के पश्चात वर्ष 1990 में इन्होंने महेश भट्ट द्वारा निर्देशित म्यूजिकल रोमांटिक फिल्म आशिकी में मिसेज विक्रम रॉय की भूमिका निभाई थी। इस फिल्म में भी उनके अभिनय की जमकर तारीफ हुई और इस फिल्म के लिए भी इनको सर्वश्रेष्ठ  सहायक अभिनेत्री फिल्म फेयर अवार्ड के लिए नामांकित किया गया।

रीमा लागू को सबसे अधिक लोकप्रियता वर्ष 1994 में  सूरज बड़जातिया द्वारा निर्देशित फिल्म म्यूजिकल रोमांटिक ड्रामा फिल्म हम आपके हैं कौन से प्राप्त हुई थी। इस फिल्म में इन्होंने मिसेज मधुकला चौधरी का किरदार निभाया था और इनकी ऑपोजिट अनुपम खेर थे। इस फिल्म के लिए भी इन्हें सर्वश्रेष्ठ  सहायक अभिनेत्री फिल्मफेयर अवार्ड के लिए नामांकित किया गया था। वर्ष 1999 में इन्होंने सूरज बड़जातिया के एक और पारिवारिक ड्रामा फिल्म हम साथ साथ हैं में ममता का किरदार निभाया था।इस फिल्म के लिए भी दर्शकों द्वारा उनके अभिनय को खूब सराहा गया।

 इसी तरह रीमा लागू ने कई अन्य सुपरहिट फिल्म जैसे कि हिना वर्ष 1991,  साजन वर 1991,  सपने साजन के वर्ष 1992, दिलवाले वर्ष 1994 में,  विजयपथ वर्ष 1994,  प्रेम ग्रंथ वर्ष 1996,  जुड़वा वर्ष 1997 में,  यस बॉस वर्ष 1997 में,  आंटी नंबर 1 वर्ष 1998,  वास्तव :  द रियलिटी  वर्ष 1999,  कहीं प्यार ना हो जाए वर्ष 2,000,  जिस देश में गंगा रहता है वर्ष 2,000, आदि।

रीमा लागू का टेलीविजन धारावाहिकों में पदार्पण (Reema Lagoo’s debut in television serials)

वर्ष 1985 में रीमा लागू ने दूरदर्शन पर प्रसारित किए जाने वाले  पारिवारिक  ड्रामा धारावाहिक खानदान से टेलीविजन धारावाहिकों में पदार्पण किया था। इस धारावाहिक की सफलता की प्रसादी होने वर्ष 1993 में दूरदर्शन पर प्रसारित किए जाने वाले गुलजार द्वारा निर्देशित धारावाहिक किरदार में भी अभिनय किया। टेलीविजन धारावाहिकों में रीमा लागू को सबसे अधिक लोकप्रियता वर्ष 1994 में दूरदर्शन पर प्रसारित किए जाने वाले धारावाहिक श्रीमान श्रीमती से प्राप्त हुई थी। इस धारावाहिक में उनके सह कलाकार जतिन कनाकिया,  राकेश बेदी और अर्चना पूरन सिंह थी।  इस धारावाहिक की सफलता के पश्चात इसी वर्ष इनके दूसरे धारावाहिक तू तू मैं मैं में इन्होंने देवकी वर्मा की भूमिका निभाई थी।  इस धारावाहिक में दर्शकों द्वारा उनके अभिनय को खूब पसंद किया गया और इसी धारावाहिक के लिए इन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री कॉमिक रोल इंडियन टेली अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था।

रीमा लागू की मृत्यु (Death of Reema Lagoo)

17 मई  2017 को रीमा लागू जब शाम के 7:00 बजे एक टेलीविजन धारावाहिक नामकरण की शूटिंग कर रही थी उसी समय उनको अचानक  सीने में दर्द  महसूस होगा। तभी उनको कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी हॉस्पिटल मुंबई में भर्ती करवाया गया। रात के 1:00 बजे तक डॉक्टर उनका चेकअप करते रहे और तब तक वह स्वस्थ थी परंतु रात के 3:30 बजे उनको अचानक घातक हृदयाघात हुआ जिसके कारण उनका निधन हो गया। इनके शव को इनकी बेटी द्वारा कोशीवाडा श्मशान घाट में धार्मिक रीति-रिवाजों के अनुसार मुखाग्नि दी।

error: Content is protected !!